What is Topology in hindi | टोपोलॉजी क्या है?

What is Topology in hindi | टोपोलॉजी क्या है?

टोपोलॉजी क्या है?

आइए हम विभिन्न टोपोलॉजी के बारे में जानते हैं? सबसे पहले हम यह जानते हैं कि टोपोलॉजी क्या है? | What is Topology in hindi और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है? (What are its advantages and disadvantages in hindi?) इसके बारे में जानेंगे।

टोपोलॉजी नेटवर्क की आकृतियां या लेआउट को कहा जाता है। नेटवर्क के विभिन्न नोट किस प्रकार एक दूसरे से संयोजित होते हैं तथा कैसे एक दूसरे के साथ कम्युनिकेशन स्थापित करते हैं, इस नेटवर्क के टोपोलॉजी निर्धारित करती है। टोपोलॉजी फिजिकल या लॉजिकल होती है। What is Topology in hindi

टोपोलॉजी किस नेटवर्क में कंप्यूटर के ज्यामितीय व्यवस्था को कहते हैं। नेटवर्क टोपोलॉजी सामान्यता पांच प्रकार के होते हैं – रिंग, बस, स्टार, मेश और हाइब्रिड, इसका ज्यामितीय प्रतिनिधित्व टोपोलॉजी के रूप में जाना जाता है। What is Topology in hindi

टोपोलॉजी के प्रकार

कंप्यूटर नेटवर्क में पांच प्रकार की टोपोलॉजी होती है :-

  1. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
  2. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
  3. स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
  4. मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)
  5. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)
  6. हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid Topology)

रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology) | computer gyan hindi

01. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)

यह अब तो जान गए कि टोपोलॉजी क्या है। आइए अब हम जानते हैं कि रिंग टोपोलॉजी किसे कहते हैं? और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है?

रिंग टोपोलॉजी में प्रत्येक डिवाइस इसके दोनों ओर दो उपकरणों से जुड़ा होता है। एक डिवाइस के दोनों तरफ डिवाइस के साथ दो पॉइंट टू पॉइंट लिंक होते हैं। यह संरचना एक वलय बनाती है इसलिए इसे रिंग टोपोलॉजी के रूप में जाना जाता है। इसे सर्कुलर (Circular) नेटवर्क भी कहा जाता है।

यदि कोई डिवाइस किसी अन्य डिवाइस को डेटा भेजना चाहता है तो वह डेटा को एक दिशा में भेजता है, रिंग टोपोलॉजी में प्रत्येक डिवाइस में एक पीटर होता है, यदि प्राप्त डेटा अन्य डिवाइस के लिए अभिप्रेत है, तो इस डेटा को तब तक अग्रेषित करता है जब तक कि इच्छित डिवाइस इसे प्राप्त नहीं कर लेता।

इसके फायदे क्या है –

  • यह नेटवर्क अधिक कुशलता से काम करता है, क्योंकि इसमें किसी भी प्रकार का होस्ट (host) या कंट्रोलिंग कंप्यूटर नहीं होता है।
  • स्टार टोपोलॉजी से अधिक विश्वसनीय है क्योंकि या किसी एक कंप्यूटर पर निर्भर नहीं होता है।
  • यदि इसमें कोई एक लाइन या नेटवर्क पर काम करना बंद कर दे तो दूसरी दिशा के द्वारा काम किया जा सकता है।

इसके नुकसान क्या है –

  • इसकी गति या तीव्रता नेटवर्क में लगे कंप्यूटर्स पर निर्भर करती है। यदि कंप्यूटर कम है तो उसकी गति अधिक होगी और यदि कंप्यूटर की संख्या अधिक है तो उसकी गति कम होती चली जाती है।
  • स्टार टोपोलॉजी की तुलना में बहुत ही कम प्रचलित है, क्योंकि इस नेटवर्क में कार्य करने के लिए बहुत ही जटिल सॉफ्टवेयर का आवश्यकता होती है।

Bus Topology in hindi | computer gyan hindi

02. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)

आइए हम जानते हैं कि बस टोपोलॉजी क्या है? (What is bus topology in hindi) और इसके फायदे और नुकसान क्या क्या है?

बस टोपोलॉजी में एक मुख्य केबल होती है और सभी उपकरण ड्रॉप लाइन के माध्यम से इस मुख्य केबल से जुड़े होते हैं। केबल की प्रारंभ तथा अंत में विशेष प्रकार का डिवाइस लगा होता है, जिसे टर्मिनेटर कहते हैं। इसका कार्य सिग्नल को एक प्रकार से नियंत्रित करके रखता है। और सभी डेटा मुख्य केबल पर प्रसारित होते हैं।

इसके फायदे क्या है –

  • बस टोपोलॉजी को इंस्टॉल करना आसान होता है।
  • इसमें स्टार और ट्री टोपोलॉजी की तुलना में कम केबलों का इस्तेमाल होता है।

इसके नुकसान क्या है –

  • किसी एक कंप्यूटर के खराब हो जाने से सभी डाटा संचार रुक जाता है।
  • संरचना में किसी नया कंप्यूटर को जोड़ना बहुत ही मुश्किल होता है।

Star Topology in hindi | computer gyan hindi

03. स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)

रिंग और बस टोपोलॉजी के बारे में जानने के बाद हम जानेंगे स्टार टोपोलॉजी ( What is star topology in hindi) के बारे में की स्टार टोपोलॉजी क्या होता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है?

स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क में प्रत्येक डिवाइस हब नामक एक केंद्रीय उपकरण से जुड़ा होता है। मतलब यह है कि नेटवर्क में एक होस्ट (Host) कंप्यूटर होता है। जो विभिन्न प्रकार की लोकल कंप्यूटर से जोड़ दिया जाता है। लोकल कंप्यूटर सीधे आपस में एक दूसरे से नहीं जुड़े होते हैं क्योंकि इसमें होस्ट (Host) कंप्यूटर द्वारा जुड़ा होता है। होस्ट कंप्यूटर द्वारा ही पूरे नेटवर्क को कंट्रोल करता है।

मेश टोपोलॉजी के विपरीत, स्टार टोपोलॉजी उपकरणों के बीच सीधे संचार की अनुमति नहीं देती है, एक डिवाइस को होस्ट के माध्यम से संचार करना होगा।

यदि एक डिवाइस दूसरे डिवाइस को डेटा भेजना चाहता है, तो उसे पहले डेटा को होस्ट में भेजना होगा और फिर होस्ट उस डेटा को निर्दिष्ट डिवाइस तक पहुंचाएगा।

इसके फायदे क्या है –

  • स्टार टोपोलॉजी में एक कंप्यूटर से होस्ट कंप्यूटर को जोड़ने में लाइन बिछाने की लागत बहुत कम आती है।
  • इसमें अगर एक लोकल कंप्यूटर की संख्या बढ़ा देंगे तो एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर पर सूचनाओं का आदान प्रदान की गति पर प्रभावित नहीं होता है, क्योंकि दोनों कंप्यूटर के बीच होस्ट कंप्यूटर होता है। इसलिए डाटा ट्रांसफर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

इसके नुकसान क्या है –

  • यह पूरा सिस्टम एक होस्ट पर निर्भर होता है, अगर एक कोई होस्ट खराब हो गया तो पूरा नेटवर्क खराब हो जाएगा।

Mesh Topology in hindi | computer gyan hindi

04. मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)

हमने जाना कि स्टार टोपोलॉजी क्या होता है, अब हम जानेंगे मेश टोपोलॉजी के बारे में की मेश टोपोलोजी क्या होता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है?

मेश टोपोलॉजी में प्रत्येक डिवाइस नोड नेटवर्क (Nodes) पॉइंट-टू-पॉइंट लिंक के माध्यम से यानी की इंटर-कनेक्टेड (Interconnected) नेटवर्क पर हर दूसरे डिवाइस से जुड़ा होता है। जब हम डेडिकेटेड कहते हैं तो इसका मतलब है कि लिंक केवल दो कनेक्टेड डिवाइसों के लिए डेटा ही वहन करता है।
मान लें कि हमने डिवाइस को नेटवर्क से जोड़ दिया है तो प्रत्येक डिवाइस को नेटवर्क के (n -1) उपकरणों से जोड़ा जाना चाहिए। n उपकरणों के जाल टोपोलॉजी में लिंक की संख्या होगी n(n-1)/2

इसके फायदे क्या है –

  • यह हाई अमाउंट ट्रैफिक को मैनेज कर सकता है, क्योंकि इसमें एक साथ डाटा संचालित होता है।
  • इसमें ट्रैफिक की समस्या नहीं होती क्योंकि प्रत्येक कंप्यूटर के लिए समर्पित बिंदु पॉइंट लिंक होता है।
  • यदि इसे किसी प्रकार का अटैक होता है तो हम इसे सिंगल नोड को बदला जा सकता है।

इसके नुकसान क्या है –

  • इसमें पावर की आवश्यकता ज्यादा होती है क्योंकि सभी नोड को हर समय एक्टिव रहना और लोड शेयर करना होता है।
  • इसमें इंस्टॉलेशन बेहद कठिन होता है और इसको मेंटेनेंस करना चुनौतीपूर्ण होता है।
  • मेश टोपोलोजी को कम्युनिकेशन के लिए उच्च केबल की आवश्यकता होती है।

tree Topology in hindi | computer gyan hindi

05. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)

हमने जाना कि मेश टोपोलॉजी क्या होता है, अब हम जानेंगे ट्री टोपोलॉजी के बारे मेंक की ट्री टोपोलोजी क्या होता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है?

ट्री टोपोलॉजी को बस और स्टार टोपोलॉजी दोनों की विशेषता है। इसमें बस बैकबोन वायर से जुड़े स्टार टोपोलॉजी जैसे वर्कस्टेशन का एक समूह होता है। ट्री टोपोलॉजी में पूर्व-निर्मित नेटवर्क का विस्तार हो सकता है।

इसके फायदे क्या है –

  • प्रत्येक सेक्शन के लिए पॉइंट-टू-पॉइंट वायर बिछाया गया है।
  • कई सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर विक्रेताओं द्वारा समर्थित है यानी कि सपोर्ट किया जाता है।

इसके नुकसान क्या है –

  • प्रत्येक खंड की कुल लंबाई उपयोग किए गए तार (Cable) द्वारा सीमित है।
  • यदि backbone लाइन टूट जाती है, तो पूरा Segment रुक जाता है।
  • अन्य टोपोलॉजी की तुलना में इसमें तार बिछाना और कॉन्फ़िगर (Configure) करना मुश्किल होता है।

Hybrid Topology in hindi | computer gyan hindi

06. हाइब्रिड टोपोलॉजी (Hybrid Topology)

हमने जाना कि ट्री टोपोलॉजी क्या होता है, अब हम जानेंगे हाइब्रिड टोपोलॉजी के बारे में की हाइब्रिड टोपोलोजी क्या होता है? और इसके फायदे और नुकसान क्या-क्या है?

हाइब्रिड टोपोलॉजी में सभी प्रकार के टोपोलॉजी उपलब्ध होते हैं मतलब इसमें रिंग टोपोलॉजी, बस टोपोलॉजी, स्टार टोपोलॉजी सभी शामिल होते हैं। बहुत सारे टोपोलॉजी को उपयोग करके जो हमे लाभ मिलता है और बहुत सारी टोपोलोजी मिलते हैं, इसे हम हाइब्रिड टोपोलॉजी कहते हैं।

इसके फायदे क्या है –

  • इस प्रकार के टोपोलॉजी में विभिन्न प्रकार के टोपोलॉजी उपलब्ध होते हैं।
  • इसका उपयोग करके हम बड़ा नेटवर्क बना सकते हैं।
  • हाई ट्रेफिक (High Traffic) को हम कंट्रोल कर सकते हैं।
  • मॉडिफाइड (Modified) कर सकते हैं और यह बहुत ही फ्लैक्सिबल (flexible) होता है।

इसके नुकसान क्या है –

  • यह नेटवर्क बहुत महंगा होता है।
  • इसका इंस्टॉलेशन बहुत ही डिफिकल्ट होता है।
  • हाइब्रिड नेटवर्क का डिजाइन बहुत ही जटिल होता है।
  • एक टोपोलॉजी को दूसरी टोपोलॉजी से जोड़ने के लिए हार्डवेयर बदलना पड़ता है।

Conclusion :-

मैं आशा करता हूँ की आपको टोपोलॉजी क्या है? | What is Topology in hindi समझ में आया होगा, अगर आपको इस सन्दर्भ में कुछ संदेह है तो कमेंट बॉक्स में अपनी राय दर्ज करे, ताकि हम उसे फिर से संसोधित करने का प्रयास करेंगे।

अगर आपको इसी तरह की जानकरी चाहिए तो आप हमे Comment Box में अपनी राय प्रस्तुत कर सकते है और ज्यादा जानकारी के लिए हमसे फेसबुक, इंस्टाग्राम और टेलीग्राम में भी जुड़ सकते हैं।

Join Us –
इन्हें भी पढ़े –

Leave a Comment